चिकित्सा अपशिष्ट के प्रबंधन एंव निपटान हेतु जिला स्तरीय माॅनिटरिंग समिति की हुई बैठक

इम्पेक्ट न्यूज. कोंडागांव.

चिकित्सा अपशिष्ट के निस्तारण हेतु बनाई जायेगी प्रभावी कार्ययोजना- कलेक्टर

कोण्डागांव जिला अपस्ताल के बैठक कक्ष मे कलेक्टर नीलकण्ठ टीकाम ने मेडिकल वेस्ट मेनेजमेंट के सबंध मे बैठक ली। इसमें जिले मे संचालित शासकीय एंव निजी स्वास्थ्य संस्थाओं मे जैव अपशिष्ट नियमों के पालन सुनिश्चित करने के संबंध मे जोर दिया।

उन्होंने कहा कि चिकित्सा अपशिष्टों का निपटान जनस्वास्थ्य से जुड़ा होने के कारण एक गंभीर मसला है। इसके लिए प्रभावी कार्ययोजना बनाये जाने की जरूरत है।

जिला अस्पताल समेत सभी सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्रों मे बायो मेडिकल वेस्ट मेनेजमेंट हेतु नोडल अधिकारी नामित होगे। इसके अलावा चिकित्सा अपशिष्टो के नियमित निपटान की स्थिति तथा रिपोर्ट की नियमित समीक्षा प्रत्येक त्रैमासिक बैठक मे की जावेगी।

इसके साथ ही बैटक मे जानकारी दी गई की जिले मे जिला अस्पताल सहित 6 सामुदायिक एवं 22 प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र हैं।जिनमे अपशिष्ट प्रबंधन एंव निपटान की प्रकिया की जा रही है।

अपशिष्ट पदार्थों को एकत्रित करने नाॅन क्लोरीनेटेड बैग का इस्तेमाल किया जा रहा है। साथ ही स्वास्थ्य केन्द्र में बायोमेडिकल से संबधित स्टाॅफ को रोग निरोधक टीके (हेप्पेटाइटीस बी तथा टीटनेस टाॅक्साइड) लगाने के भी निर्देश हैं।

बैठक मे बताया गया कि बायोमेडिकल ट्रीटमेंट फेसिलिटी के प्लांट हेतु ग्राम कोकोड़ी मे भूमि आंबटित की गई थी। वर्तमान में उक्त भूमि पर मक्का प्रोसेसिंग यूनिट लगाये जाने के कारण उसी ग्राम में नवीन भूमि आंबटित किया गया है।

बैठक मे पुलिस अधीक्षक सुजीत कुमार, मुख्य चिकित्सा एंव स्वास्थ्य अधिकारी डा. विरेन्द्र ठाकुर, एसडीएम टेकचन्द अग्रवाल, जिला शिक्षा अधिकारी राजेश मिश्रा, जिला कार्यक्रम प्रबंधक सोनल ध्रुव, प्रभारी सिविल सर्जन डा.वायके ध्रुव, सीईओ जनपद पंचायत डीगेश पटेल सहित अन्य अधिकारी कर्मचारी उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *