ट्रेनिंग में जिस पर सबसे ज्यादा जोर था, कर्मियों ने की वही गलती

जगदलपुर | लोकसभा चुनाव में 12 पोलिंग बूथों में मॉक पोल के वोट डिलीट करने अमला भूल गया। इस वजह से इन बूथों पर ईवीएम में वास्तविक मतदान से 50-50 वोट ज्यादा दर्ज हुए हैं। फाइनल रिपोर्टिंग में ऐसे बूथों की संख्या बढ़ भी सकती है। दरअसल, मतदान से पहले ईवीएम-वीवीपैट मशीनों की जांच के लिए प्रत्याशियों के पोलिंग एजेंट्स की मौजूदगी में मॉक पोल के वोट डालकर देखा जाता है। बाद में सीआरसी के जरिए वोट डिलीट कर दिए जाते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *